लूटतंत्र - शब्दबाण

शब्दबाण

A blog about new idea, command men issue, motivational and many more article in hindi

test banner

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Thursday, 16 March 2017

लूटतंत्र




आजादी के पूर्व राजनिति लोकतंत्र की आत्मा कही जाती थी आजादी के उपरान्त भी राजनिति के द्धारा देश की दिशा एंव धारा तय की जाती रही है ,सरदार बल्लभ पटेल जैसे राजनितिज्ञों ने देश की 567 रियासतो को संगठित करके देश का श्रृ़ंगार किया । वही राष्ट्र की रक्षा करने के लिए अपने प्राणो की आहुति देने वाले वीर अब्दुल हामिद भारत  के आँचल को कभी गंदा न करने का संकल्प धारण करने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी एंव नेता जी सुभाषचंन्द्र बोस ,जिन्होने शासन सत्ता का लोभ त्यागकर माँ भारती की एकता एंव अखंडता को सारगर्भित बनाये रखने के लिए सतत् प्रयास किया एंव अपने प्राणो की आहुति दे दी ।
आखिर ऎसा क्यो है कि सदियाँ बीत जाने के बाद भी आज देश का हर एक नन्हा सिपाही उन्के आश्रृपूरित भाव भरी श्रद्धांज्जलि देने के लिए तत्पर्य रहता है ,अरसे गुजर जाने के बाद भी आज उन्की स्मृतियाँ हमारे हद्धय को आन्दोलित करती रहती है एंव सदैव राष्ट्र के लिए प्राण न्यौछावर करने की प्रेरणा देती रहती है,  उन्के पद्चिन्हो पर चलकर राष्ट्र को पुनः विश्वगुरु बनाने की परिकल्पनाओ को धरातल पर लाया जा सकता है । भारत मे लोकतंत्र एक पहेली से कम नही है - विशेषकर भारत के लिए एक ओर जनसंख्या की दृष्टि से दुनियाँ का सबसे बड़ा लोकतंत्र कहलाने मे भारत का प्रत्येक पढ़ा लिखा नागरिक ,प्रबुद्धजन गर्व महसूस करता है, देश के आजाद होने के बाद जो संविधान बना और उसके बाद 67  वर्ष गुजर जाने के बाद भी लोकतंत्र टिका रहा, उस समय भी भारतवासियो को अपने संविधान और लोकतंत्र पर गर्व था, आज भी है ।
भारत मे _1984 ,मे एक बार लोकतांत्रिक अधिकारो पर रोक लगाकर आपातकाल लागू किया गया था, तो भारत की जनता ने मौका मिलते ही उसे भारी बहुमत से अस्वीकार कर दिया था । दूसरी ओर भारत के सबसे बड़े लोकतंत्र मे दुनियाँ की सबसे बड़ी गरीब ,कुपोषित और अशिक्षित आबादी निवास करती है, इस मायने मे भारत का लोकतंत्र पूरी तरह असफल है  आजादी व लोकतंत्र के आधी सदी से भी अधिक गुजर जाने के बाद भी जाति, लिंग, वर्ण, क्षेत्र और समुदायो की राजनितिक विषमताएँ बढ़ी एंव मजबूत हुयी है ।
ये खाईयाँ और दरारे इतनी बढ़ गयी है कि पूरा राष्ट्र टूटता हुआ नजर आ रहा है, नीचे स्तर की घूसखोरी से लेकर ऊपर के महाघोटालो तक भ्रष्टाचार अपनी चरम सीमा पर है, भारत की राजनिति और यहा के राजनितिज्ञ दलबदल, अनैतिकता ,सिद्धान्तहीनता व अवसरवाद के मूर्त रुप नजर आते है । राजनिति मे अपराधी तत्वो, हिंसा कालेधन, जाति, व संप्रदायिकता का वर्चस्व बढ़ता जा रहा है ,अब तो देश की संप्रभुता और आजादी को राजनितिज्ञों ने दावँ पर लगा दिया है, ऎसा क्यो क्या हमारे लोकतंत्र के बनावट मे ही कोई बुनियादी खोट है या मामला कुछ और ही है ।

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here